ज़िन्दगी के सफर की हद है....?






ज़िन्दगी के सफर की हद है, वहा तक, के जहा तक इसके निशां रहे... चले चलो वहा तक, जहा तक ये नीला आसमान रहे.. ये क्या के उठाये कदम और आ गई मंज़िल... मज़ा तो तब है के पैरो मे कुछ थकान रहे |



learn vastu with vastudevaa ph./whatsapp: 7719562738, 8284022533 web: www.vastudevaa.com

7 views0 comments